Wednesday, May 24, 2017

आश्चर्य  चकित  व्  सहित प्रगति.
हिंदी की.
तमिलनाडु  में.
न नौकरी की आशा.
न  राज्य सरकार का समर्थन.
न प्रचार का जोश.
छोटे छोटे गांवों में भी
द्रमुक दलों के लोग भी
हिंदी विरोध का जोरदार भाषण.
केवल राजनीति  हीे कारण.
वे भी पढने के चाहक.
पढने तैयार.
स्वयं प्रचारक कमाते ,
छात्र खुद पढने  आते.
प्रचारकों की कमी.
दक्षिण  के चारों प्रांतों में
तमिलनाडु  की छात्र संख्या अधिक
सभा की परीक्षाओं  में.
नौवीं कक्षा में ही
प्रवीण बीए स्तर की परीक्षा.

Tuesday, May 23, 2017

జిందగీ .வாழ்க்கை . जीवन

வாழ்க்கையில் புகழும் , जिन्दगी में यश , జీవితాల ప్రసిద్ధం ,అప్రసిద్ధం
வாழ்க்கையில் இகழ்ச்சியும் जिन्दगी में अपयश
మిత్ర ,రక్త బంధనాలు సంగమం
நண்பர் குழாமும், दोस्तों के दल
இரத்த உறவுகள் குழாமும் रक्त्बंधन के दल
தொழில் உறவுகளும் धंधों के रिश्ता
ఉత్యోగ బంధనములు

தோற்றப்பொலிவும் रूप सौन्दर्य
మనిషిలి సౌందర్యాలు
தேற்றும் தெய்வமும் सांत्वना देते ईश्वर
భగవంతుడు సమాధానములు
బాగావంతడు తయవే.

தெய்வத்தின் அருளே. ईश्वरीय कृपा ही.

Monday, May 22, 2017

हिंदी प्रचार और तमिलनाडु

கா லை வணக்கம். 
பா ரத் மாதா வா ழ் க. 
பா ரதத் தி ல் ஆன்மீகம் 
பாவ பு ண் ணியம் பற்றி அதி கம் பேசு கி றோம். 
ஆனால் கு ற்றங்கள், ஊழல்கள்,
கை ஊட்டுக்கள் கற்ப ழி ப் பு கள் 
அதி கம் இங்கே. 
உணவு ஊட்டல் சக்தி பெ ற. 
அது உடல் வளம். 
கை ஊட்டல் செல்வம் பெற. 
கை யா ல் பெறும் செல்வம்
கை யா ல் செலவு 
உணவு ஊட்டம் உடல் வளர்ச்சி. 
கை ஊட்டல் பாவம். 
அது ஆடம்பரம். 
தனியார் பள்ளிக்கு 
ஆ சி ரி யர் கொத்த டி மை. 
கட்டடம் ஆடம்பரம். 
ப டா டோ பம் பயங்கரம். 
என்பது நம் மு ன் னோர் கூறி ய
பொன் மொ ழி .
ஹிந்தி பி ர சா ர சபை 
 ஆடம்பரம் நோக்கி 
செல் கி ற து. 
பிர சா ரத் தி ற் கு இது 
பொ ன் னா ன நேரம். 
ஆனால் ஹிந்தி போராட்ட காலத்தி ல் 
இருந்த சபை வேறு. 
இப்பொழுது அங்கு ம் தேர்தல். 
ஆடம்பரம். ஊழல். 
கட்டடம் இடி த்தல் கட்டடம் கட்டல்
இது அரசி யல் வாதி கள் ஒப்பந்தம் கொள்ளை போ ல். 
ஜயலலி தா அண் ணா வளைவு 
பல கோடிகள். 
அப்படியே. 
பிரசார சபை தேர்தல் 
நீதி மன பக வா ன் 
படி ஹி ந் தி பிரசாரம் / பி ர சார க ர் ளுக்கு ஊக்கம் த ராமல் 
பணக் காரர் களிடம் 
பணம் வ சூலிக்க 
கட்டாயம். 
நூற்றாண்டு வி ழா 
 ஹிந்தி படிப் போ ர் 
எண்ணிக்கை கள் கூட 
தேர்வு கட்டணங்கள் குறைக்கப்பட 
வே ண்டும் .ஆனால் 
கட்டணம் நன்கொடை கள் 
அதிகரிப் பு. 
பி ர சாரகர் களை மு கவர்கள். 
அவர்கள் கட்டி ய கட்டடங்கள் 
ஆங்கில வழி பள்ளிகள். 
பல் கலை க் கழகம்.
இந்த பணத்தைக் 
கொண்டு தமிழக 
 அனைத்து மா வட்டம் களிலும் 
பிரசார மையங்கள் தி றக்கலாம். 
இவர்கள் இன்றைய நோக்கம் கட்டட ஒப்பந்தம். 
ஹிந்தி பிரசார மையங்கள் 
அதிகரிப்பதல்ல. 
பிரசாரகளிடம் பணம் பரி ப்ப து. 
ஆங்கிலப் பள்ளிகள் நடத்தி 
ஹி ந்தி பிரசாரம் பி ர சாரகர் கள் 
பணம் உள்ளவர் ளுக்கு மட்டு ம்
ஹிந்தி கற் பி ப்ப து. 
பி ர சா ர கர்கள் சபைக் கு 
 பணம் வசூலி க்க. 
பட்டயத் தேர்வு சா ன் றி தழ் பெ ற 
கட்டணம் 750.
பிரசாரம் பணம் உள்ள வர்க ளு க்கு மட் டும். 
இந்த சு ய நலம் அரசி யல் 
சிந்திக்க வே ண்டும்.

Saturday, May 6, 2017

कैसे? समझ सकते हैं?

ईश्वर का संकेत मान सकते हैं.
ईश्वरीय रचनाएं समझना चाहिए.
कैसे? समझ सकते हैं?
ईश्वरीय पैगाम जिसने दिया,
ईश्वरीय मार्ग अति सरल, 
अति दुर्गम़:
सत्य पर दृढ हरिश्चंद्र
असह्य कष्ट सहे.
पैगंबर मुहम्मद को पत्थर से मारा.
ईसा मसीह को शूली पर चढ़ाया.
न जाने सब सच्चे अच्छे नेक लोग
दरिद्रता के गड्ढे में ही थे, हैं, होंगे.
पर आश्चर्य, इनकी प्रशंसा में,
इनके मंडप बनाने-बनवाने में
भ्रष्टाचारियों के अपना विशेष धन -बल-पद- अधिकार.
सम्मान, खुशामदी, चाहक भीड.
उससे बडी भीड साधु संत नंगे कौपीन
अर्द्ध नग्न स्वामियों के आगे-पीछे.
कबीर पंथ, तुलसीपंथ, सूर पंथ,
रमण महर्षी पंथ, अघोरी भक्त
अपनी अलग शक्ति विशेष .
कौन कैसे जान -समझ सकते हैं,
ईश्वरीय लीला क्रीडा.
एक ओर निर्दयी स्वार्थी , अत्याचारी , क्रूर, भ्रष्टाचारी ,
उनके चाहक धनी , स्वार्थी भ्रष्टाचारी.
दूसरी ओर न्याय के चाहक गरीबी ,दरिद्री , शक्तिहीन ,
सत्पथ दिखाने वाले, त्याग मार्ग दिखानेवाले ,
हास्य का पात्र , यह ईश्वर की लीला
ईश्वर निंदक या ईश्वर प्रशासक
सब ईश्वरीय क्रीडा, समझ में नहीं आता.

Thursday, May 4, 2017

ईश्वर के नाम संयम की सीख ;



ईश्वर के नाम संयम की सीख ;
ईश्वर के नाम दान -धर्म -त्याग की सीख ;
ईश्वर के नाम सारहीन अशाश्वत जग की सीख ;
ईश्वर के नाम आत्म नियंत्रण की सीख.
सब सीख तो ठीक ;

पर मंदिरों में ,देवालय में ,मस्जिद में
बाह्याडम्बर ,सोना -चांदी स्वर्ण के खान;

हर प्रार्थना अलग शुल्क ;

अमीरों के अर्थात टिकट लेने वालों के दर्शन जल्दी ;

सोना  चाँदी चढ़ाओ ,पाप से मुक्त ;

नौकरी मिलने ,शादी होने ,परीक्षा उत्तीर्ण होने

मनौतियाँ अपनी-अपनी माँग ,

अपनीअपनी चाहें

पूरी होती हैं ,अजब की बातें ,

एक बार गया ,लाभ ही लाभ ,फिर

हर साल भगवद दर्शन ,मनौतियाँ पूरी।

दिन बी दिन ,साल भर साल भक्तों की भीड़

सम्भालना ,क़ानून -व्यवस्था ,यातायात ,पानी ,टट्टी की सुविधाएँ
यह तो एक चमत्कार ; पुण्य क्षेत्र के अजीबो -गरीब बातें
सचमुच भक्ति क्षेत्र निराली ;

एक और ठगे जाते है ,

दूसरीओर श्रद्धा -भक्ति बढ़ती जाती है ;

असत्याचरण भी ,सत्याचरण भी

पाप कर्म करने.
 अज्ञात डर -आतंक -उत्पात

बड़े बड़े पाप निष्ठों को भी झकझोर कर देता जरूर।
यही ईश्वरीय दंड -चमत्कार.