Thursday, August 17, 2017

हिंदी प्रचारक

अहिन्दी क्षेत्र खासकर 
तमिलनाडु के प्रचारक 
उनको प्रोत्साहित करने ,
युवकों को हिंदी प्रचार में लागने चाहिए 
नयी शक्ति . 
वर्ष है यह सभा के शदाब्दी वर्ष
कुछ करना है हिंदी प्रेमियों को
न वहां राज्य सरकार से प्रोत्साहन ,
न केंद्र सरकार से ,
खुद अपने परिश्रम और आमदनी से कर रहे हैं प्रचार.
मुफ्त में कुछ लोग , पैसे लेकर कुछ लोग
अन्यान्य कामों के बीच हिन्दी के प्रचार में ही लग जाते,
न पूर्ण कालीन हिदी के सहारे जीने वाले प्रचारक,
न यहाँ हिंदी में जीविकोपार्जन का मार्ग
फिर भी लाखों की संख्या में हिंदी के चाहक
कम से कम करें प्रशंसा के प्रोत्साहन.
अहिन्दी लेखकों को भी दें प्रोत्साहन.

जिओ जीने दो.

मनुष्य पढता है ज्यादा,
सुनता है ज्यादा ,
सुनाता है ज्यादा ,
दया की बात,
परोपकार की बात ,
दान की बात .
इंसानियत की बात -पर
करता है सब विपरीत.
सीमा जैन सयुक्त राष्ट्र संघ में
बालिका की अभिव्यक्ति
हर कोई खामोश, किसी किसी की आँखों में आंसू,
क्या हमारे आगे की पीढियां तितलियाँ देखेंगी ,
गौरैया देखेंगी , भारत में झीलें देखेंगी .
मनुष्यता का छाप देखेंगी ,
भारतीय भाषाएँ जानेंगी ,या
प्राकृतिक , अपभ्रंस , मैथिलि ,संस्कृत सम शिलालेख देखेंगी .
बंगाल में स्वतंत्रता दिवस मनाने में रोक,
जम्मू कश्मीर में इकहत्तर साल आजादी के बाद भी
५०० में ही देश भक्ति,
क्या यह मोदीजी की गलती या पूर्व शासकों का द्रोह
अब युवकों को आ गया सोचकर कदम बढाने का वक्त.
जिओ और जीने दो.

Monday, August 7, 2017

अंग्रेज़ी जानो अर्थ के लिए /सार्थक के लिए.

हिन्दी प्रेमी समुदाय ,
ह्रदय से जुड़ते हैं ,
अर्थ को अर्थहीन समझ
बिताते हैं सार्थक जीवन.
शुद्ध हिंदी, अंग्रेज़ी से दूर,
मतलब है अर्थ के आडम्बर नहीं,
अर्थ क्या चंचल बूढ़े की पत्नी ,
रहीम ने कहा,हम ने सोचा मुगलों का व्यंग्य.
सच मुच लक्ष्मी मातृभाषा से दूर,
अँगरेज़ के पीछे छलती है,
चलना -छलना में उच्चारण भेद ,
उछलती -कूदती आश्रमों में धन भी अंग्रेज़ी
भाषण से बरस रहा है,
अतः बढे बढे आश्रम के आचार्य
कम संस्कृत , कम मातृभाषा, अधिक अँगरेज़
अर्थ तो बढ़ रहा है , पर युवा पीढी
अर्थहीन जीवन की और ही संस्कृति
प्रेम विवाह , तलाक , मधुशाला,पर
नारी को तंग की आह्वान समझ रहे हैं,
आतंक है भविष्य में न रहेगा परिवार.
न रहेगा स्त्री मोह , न रहेगा प्यार का घुमाव.
कुत्ते के पिल्लै जैसे लेंगे बच्चे बाज़ार से ,
शुक्ल दान बैंक से गर्भ धारण .
विज्ञान की तरक्की , अंग्रेजों का शान
ले जा रहा है अज्ञान की और.

अंग्रेज़ी का अर्थ मोह

हिन्दी प्रेमी समुदाय ,
ह्रदय से जुड़ते हैं ,
अर्थ को अर्थहीन समझ
बिताते हैं सार्थक जीवन.
शुद्ध हिंदी, अंग्रेज़ी से दूर,
मतलब है अर्थ के आडम्बर नहीं,
अर्थ क्या चंचल बूढ़े की पत्नी ,
रहीम ने कहा,हम ने सोचा मुगलों का व्यंग्य.
सच मुच लक्ष्मी मातृभाषा से दूर,
अँगरेज़ के पीछे छलती है,
चलना -छलना में उच्चारण भेद ,
उछलती -कूदती आश्रमों में धन भी अंग्रेज़ी
भाषण से बरस रहा है,
अतः बढे बढे आश्रम के आचार्य
कम संस्कृत , कम मातृभाषा, अधिक अँगरेज़
अर्थ तो बढ़ रहा है , पर युवा पीढी
अर्थहीन जीवन की और ही संस्कृति
प्रेम विवाह , तलाक , मधुशाला,पर
नारी को तंग की आह्वान समझ रहे हैं,
आतंक है भविष्य में न रहेगा परिवार.
न रहेगा स्त्री मोह , न रहेगा प्यार का घुमाव.
कुत्ते के पिल्लै जैसे लेंगे बच्चे बाज़ार से ,
शुक्ल दान बैंक से गर्भ धारण .
विज्ञान की तरक्की , अंग्रेजों का शान
ले जा रहा है अज्ञान की और.

Sunday, August 6, 2017

आजादी




News Feed


आजादी भारत की ,
दो दलों के कठोर परिश्रम और
आत्म बलिदान से मिली.
हर प्रांत के कितने बलिदानी ,
तन , मन , धन सब को देश के लिए
अर्पण किया, लाठी का मार सहा;
जेल की यातनाएं सही.
आजादी के बाद भारत की तरक्की हुयी हैं
इसमें शक की कोई बात नहीं ;
हिंसा के दल गरम दल ,
पटरियां तोडी, तार के खंभ तोड़े;
अंग्रेज़ी अत्याचारी निर्दयी जिलादेशों को मारा;
खुद फाँसी पर चढ़े,
उन भारत माँ के लालों का प्रणाम.
अहिंसा के मार्ग पर लाठी का बेरहमी मार सह कर
सत्याग्रह को अपनाया,असहयोग आन्दोलन किया,
स्वदेशी कपड़े बनाया, बनवाया;
विदेशी चीजों को जलाया.
जेल में असह्य यातनाएँ सही,
कोल्हू के बैल बन कोल्हू खींचे;
उन लाखों शहीदों को
सादर प्रणाम;
पुत्रों को , पत्नी को सब छोड़ अज्ञात वास बिताया.
उनके त्याग की चरम सीमा के कारण
आज है हम स्वतंत्र.
उन शहीदों , उन के नेताओं को
कोटी कोटी प्रणाम .
आज उनके प्रति हामारी बड़ी श्रद्धांजलियाँ
यही होंगी ,जिससे देश के भ्रष्टाचार दूर हो;
नदियों का राष्ट्रीयकरण हो,
प्रांतीय जोश से बढ़कर रास्ट्रीय भावना जागें;
रिश्वत न देने का मनो भाव हो.
जरा सोचिये , स्वतंत्रता सेनानियों का
अमूल्य अपूर्व त्याग;

Friday, June 23, 2017

யோகா கலையா மதமா ?



  • t
    1. யோகா கலையா ? மதமா ?
      முகலாயர் அமர்ந்து தொழுகை செய்வது தான் வஜ்ராசனப் பயிற்சி.
      மண்டியிட்டு அமர்ந்து நெற்றி பூமியில் பட .
      ஐந்து நேரம் தொழுகை செய்யும் மகமதிய சகோதரர்கள் நெற்றியில் கருப்பு தழும்பு இருக்கும்.
      கிறிஸ்தவர்களும் மண்டியிட்டுத் தொழுவர். 
      இதெல்லாம் சேர்ந்த உடற்பயிற்சி
      இந்த மதங்கள் தோன்றுவதற்கு முன்பே இருந்ததுதான் சூரிய நமஸ்காரம்.
      சிந்தித்துப் பாருங்கள்.
      உண்மையை மறைப்பவர்கள் தான் மத தீவீரவாதிகள்.
      இந்துமதம் ஒளியை இறைவனாக ஏற்கிறது.
      உருவமற்ற இறைவனை ஏற்கிறது.
      உருவமுள்ள இறைவனைப் படத்ததது மனிதன்.
      அதுவே ராமாவதாரம் கிருஷ்ணாவதாரம் திருவிளையாடல் இவைகளில் உண்மை இருந்தாலும் கற்பனைகள் அதிகம்.
      அதனால் தான் ராமாயணம் வேறுபடுகிறது.
      கம்பர். துளசி வால்மீகி மூன்றிலும் வேறுபாடு உள்ளது. மொழிபெயர்ப்பு நூல்கள்.
      சமுதாயத்தின் கண்ணாடி இலக்கியம்.
      இயற்கையை வர்ணிப்பது இலக்கியம்.
      இதில் முகமே சந்திரபிம்பம் என்பது கற்பனை.
      நிலவு இயற்கை . முகம் இயற்கை . இரண்டு உண்மைகள் ஒன்று சேர்ந்தால்
      கற்பனை.
      சாஷ்டாங்க நமஸ்காரம் கிண்டல் செய்யும் வீரமணி, வஜ்ராசனத்தில் நெற்றிப்படும்படி தொழுகை செய்வது , கிறிஸ்தவர்கள் மண்டியிட்டு பிரார்த்தனை செய்வது ஆகியவையும் மண் நோக்கிக்கிப் பாயும் நமஸ்காரங்கள் தான்.
      மதம் என்பது ஒழுக்கம் .
      ஹிந்து மதத்தில் ஒழுக்கம் கிடையாது. ஒற்றுமை கிடையாது.
      பலருக்கு ஏன் லக்ஷக்கண்க்கானவர்களின் பிழைப்பே ஆன்மீக ஏமாற்றங்களில் தான்.
      ஆலயம் சுற்றி கடைகள். அதில் தரமில்லா பொருட்கள்.
      அதை அனுமத்திக்கும் அரசு ஆதரிக்கும் மக்கள்.
      மாவால் செய்த ருத்திராக்ஷம் பெரிய அளவில்
      விற்கப்படுகிறது. அதைத்தடுக்க அரஸூ இல்லை.
      அவ்வாறே படங்கள் , ஆயிரம் தலை விநாயகர்
      அவரை கடலில் வீசி அவமானம்.
      சிவனை வழிபாடும் ஆஷ்ரமங்கள், வைணவ ஆஷ்ராமங்கள்.
      குங்குமம் கூட பச்சைநிறம் குபெரர்கொவிலில்.
      இதற்கு எங்கு ஆதாரம் தெரியவில்லை.
      இறைவன் இருக்கிறான். ஆனால்
      அவனை வைத்து வாணிகம்தான் பலருக்கு ஜீவனம்.
      அதுவே ஆன்மீக ஊழல்.
      ஜோதிடம் சொல்பவர் வீட்டில் அஷ்ட தரித்திரம்.
      பிரபல ஜோதிடர் தற்கொலை.
      நாம் இறைவனை உணரவேண்டும்.
      இறைவன் நம்மைத்தேடி வரவேண்டும்.
      முகம்மது நபிக்கும் அப்படியே.
      ஆதி சங்கரருக்கும் அப்படியே.
      பக்த தியாகராஜன் துருவன் பிரஹ்லாதன் அனைவருக்கும் அப்படியே. வால்மீகிக்கும் அப்படியே.

    Tuesday, June 13, 2017

    आज मेरे मन में निम्न वचन लिखने की प्रेरणा मिली।
    ईश्वर को धन्यवाद ।
    ஹிந்தியில் என் படைப்பு அதை

    தமி ழ் அன்பர் ளுக்கு 
    தமிழ் மொழி பெயர்ப்பு சமர்ப்பணம்.

    உன் முன்னேற்றம் உனக்குள்,
    உடல் வளர்ச்சி போல்.
    உழைப்பு நேர்மை ,வாய்மை மூன்றிலே வளர்ச்சி காண்.

    உலகியல் ஆசைகளை குறைத்துக் கொள்
    அதுவே அமைதி தரும் வழியாகும் .
    அவ் வுலக ஆன்மீகம் தருமே
    முடிவு இல்லா மன நிறைவு.

    உலக நடவடிக்கைகளை,
    சரியாகத் தெரிந்து கொள்.
    பிறவிப் பயன் பெற
    ஆசைகளை அகற்று.

    ஊழல் வாதி, கருப்பு பண வாதி,
    கையூட்டு வாதி ,
    அனுபவிப்பது வெளிமன ஆனந்தம்.
    அடிமன இறை நாமம் கூறலில் கிடைப்பதே
    இறை இன்பம்.

    அழிவு காலத்தில் எதிர்மறை அறிவு அறிஞன் கூற்று.
    எழுச்சி காலத்தில் நேர் மறை அறிவு
    இறைவன் அளித்தது

    तेरी उन्नति तुझमें , जैसे शारीरिक विकास।
    मेहनत, नेक सत्य , तीनों में है संतोष।
    लौकिक इच्छा कम करो, वही शांति का पथ।
    अलौकिक अाध्यात्मिकता में है,अनंत संतोष!!
    जान लो सही पैमाने में ,जग व्यवहार को।
    जन्म फल मिलना हो तो, दूर करो चाहों को।
    भ्रष्टाचारी, काला धनी , रिश्वत खोरी ,भोगते बाह्यानंद।
    आंतरिक आनंद भजन में ,जिससे मिलता ब्रह्मानंद।
    विनाश काले विपरीत बुद्धि, ग्ञानी ने कहा।
    विकास काले अनुकूल बुद्धी, ईश्वर की देन।।
    आज मेरे मन में निम्न वचन लिखने की प्रेरणा मिली।
    ईश्वर को धन्यवाद ।

    तेरी उन्नति तुझमें , जैसे शारीरिक विकास।
    मेहनत, नेक सत्य , तीनों में है संतोष।
    लौकिक इच्छा कम करो, वही शांति का पथ।
    अलौकिक अाध्यात्मिकता में है,अनंत संतोष!!
    जान लो सही पैमाने में ,जग व्यवहार को।
    जन्म फल मिलना हो तो, दूर करो चाहों को।
    भ्रष्टाचारी, काला धनी , रिश्वत खोरी ,भोगते बाह्यानंद।
    आंतरिक आनंद भजन में ,जिससे मिलता ब्रह्मानंद।
    विनाश काले विपरीत बुद्धि, ग्ञानी ने कहा।
    विकास काले अनुकूल बुद्धी, ईश्वर की देन।।